Dipawali Ki Shayari

इस बार की दीवाली हो

तारों से चमकीली

दुख से कोई आँख

हो ना जाए गीली

कष्ट हम ना दें किसी को

हो मित्र या सहेली।

Leave a Reply