35 Karmadharaya Samas Examples in Hindi | Karmadharaya Samas ke Udaharan | कर्मधारय समास के उदाहरण

If you have any questions, comments or feedback, please write to us through the comment section.

कर्मधारय समास में पूर्व पद विशेषण तथा उत्तर पद विशेष्य होता है।

कर्मधारय समास के उदाहरण

अंधकूपअंधा है जो कूप
अंधविश्वासअंधा है जो विश्वास
अधपकाआधा है जो पका
ऋषिवरऋषियों में है जो वर
कालीमिर्चकाली है जो मिर्च
दुरात्मादुर् (बुरी) है जो आत्मा
नीलकंठनीला है जो कंठ
नीलकमलनीला है जो कमल
नीलगगननीला है जो गगन
नीलगायनीली है जो गाय
नीलांबरनील है  जो अंबर
परमानंदपरम है जो आनंद
पीतांबरपीत है जो अंबर
पुरुषोत्तमपुरुष उत्तम
भलामानसभला है जो मानस
महाजनमहान है जो जन
महात्मामहान है जो आत्मा
महादेवमहान है जो देव
महाराजामहान है जो राजा
महाविद्यालयमहान है जो विद्यालय
शुभागमनशुभ है जो आगमन
श्वेतांबरश्वेत है जो अंबर
सद्धर्मसत् है जो धर्म

कर्मधारय समास के पूर्व पद तथा उत्तर पद में उमपेय-उपमान का संबंध भी हो सकता है, जिसके उदाहरण नीचे दिये गये हैं:

कनकलताकनक के समानलता
कमलचरणकमल के समानचरण
कमलनयनकमल के समाननयन
करकमलकमल के समानकर
क्रोधाग्निक्रोध रूपीअग्नि
घनश्यामघन के समानश्याम
चंद्रमुखचंद्र के समानमुख
चरणकमलकमल के समानचरण
नरसिंहनर रूपीसिंह
भुजदंडदंड के समानभुजा
वचनामृतअमृत के समानवचन
समस्तपदउपमानउपमेय

Leave a Reply