100 Tatpurush Samas in Hindi Examples | Tatpurush Samas ke Udaharan | तत्पुरुष समास के उदाहरण हिंदी में

तत्पुरुष समास में पूर्व पद गौण तथा उत्तर पद प्रधान होता है। जब दो पदों को जोड़कर तत्पुरुष समास बनाया जाता है तो समस्तपद में विभक्ति चिन्हों का लोप हो जाता है,

जैसे पथ से भ्रष्ट=पथभ्रष्ट (यहाँ समस्तपद में विभक्ति ‘से’ लोप हो गई है)

नीचे हमनें तत्पुरुष समास पद के 100 उदाहरण दिए हैं। आप भी यदि ऐसे ही किसी तत्पुरुष समास पद को जानते हों तो उस टिप्पणी के द्वारा जोड़ने का प्रयास करें ताकि अन्य पाठक उसका भी लाभ उठा सकें।

तत्पुरुष समास के उदाहरण हिंदी में

समस्तपदविग्रह
अकालपीड़ितअकाल से पीड़ित
अमचूरआम से चूरा
अमृतधाराअमृत की धारा
अश्रुगैसअश्रु लाने वाली गैस
आत्मविश्वासआत्मा पर विश्वास
आनंदमग्नआनंद में मग्न
आपबीतीआप पर बीती
आरामकुर्सीआराम के लिए कुर्सी
आशातीतआशा से अतीत
ईश्वरप्रदत्तईश्वर से प्रदत्त
उद्योगपतिउद्योग का पति
ऋषिकन्याऋषि की कन्या
कष्टसाध्यकष्ट से साध्य
कानाफूसीकान में फुसफुसाहट
क्रीडाक्षेत्रक्रीडा के लिए क्षेत्र
गंगाजलगंगा का जल
गंगातटगंगा का तट
गुणयुक्तगुण से युक्त
गुणहीनगुणों से हीन
गुरुदक्षिणागुरु के लिए दक्षिणा
गुरुदत्तगुरु द्वारा दत्त
गृहप्रवेशगृह में प्रवेश
गृहस्वामीगृह का स्वामी
गृहागतगृह को आगत
गोबरगणेशगोबर से बना गणेश
गोशालागौओं के लिए शाला
ग्रामगतग्राम को गत (गया)
ग्रामवासग्राम में वास
घुड़दौड़घोड़ों की दौड़
घुड़सवारघोड़े पर सवार
घृतान्तघृत से युक्त अन्न
जन्मांधजन्म से अंधा
जलधाराजल की धारा
जीवनसाथीजीवन का साथी
जेबघड़ीजेब के लिए घड़ी
ज्ञानयुक्तज्ञान से युक्त
दहीबड़ादही में डूबा हुआ बड़ा
दानवीरदान में वीर
दिनचर्यादिन की चर्या
देवमूर्तिदेव की मूर्ति
देशनिकालादेश से निकाला
देशभक्तिदेश की भक्ति
देशवासीदेश का वासी
देशाटनदेश मे अटन (भ्रमण)
देशार्पणदेश के लिए अर्पण
धनहीनधन से हीन
धर्मविमुखधर्म से विमुख
धर्मवीरधर्म में वीर
ध्यानमग्नध्यान में मग्न
नगरवासनगर में वास
नीतिनिपुणनीति में निपुण
पथभ्रष्टपथ से भ्रष्ट
पदच्युतपद से  च्युत
परलोकगमनपरलोक को गमन
पराधीनपर के अधीन
पर्णकुटीपर्ण से बनी कुटी
पाठशालापाठ के लिए शाला
पुस्तकालयपुस्तक का आलय
पूँजीपतिपूँजी का पति
प्रेमसागरप्रेम का सागर
प्रेमातुरप्रेम से आतुर
भयभीत भय से भीत
भारतरत्नभारत का रत्न
भारतवासीभारत का वासी
भुखमराभूख से मरा हुआ
भूदान भू का दान
भ्रातृस्नेहभ्राता का स्नेह
मदांधमद से अंधा
मनगढ़ंतमन से गढ़ा
मनमानामन से माना हुआ
मृत्युदंडमृत्यु का दंड
यज्ञशालायज्ञ के लिए शाला
यशप्राप्तयश को प्राप्त
युद्धभूमियुद्ध के लिए भूमि
रणकौशलरण में कौशल
रणवीररण में वीर
रसोईघररसोई के लिए घर
राजकुमारराजा का कुमार
राजदूतराज (राजा) का दूत
राजपुत्रराजा का पुत्र
राजपुरुषराजा का पुरुष
राजप्रासादराज (राजा) का प्रासाद
राजसभाराजा की सभा
रामभक्तिराम की भक्ति
रेखांकितरेखा से अंकित
रोगमुक्तरोग से मुक्त
रोगयुक्तरोग से युक्त
लखपतिलाखों रुपयों का पति
लोकप्रियलोक में प्रिय
वनवासवन में वास
विद्यालयविद्या के लिए आलय
शरनागतशरण में आगत
शास्त्रप्रवीणशास्त्र में प्रवीण
शोकाकुलशोक से आकुल
सत्याग्रहसत्य के लिए आग्रह
सिरदर्दसिर में दर्द
सेनापतिसेना का पति
स्नानगृहस्नान के लिए गृह
हथकड़ीहाथ के लिए कड़ी
हस्तलिखितहस्त से लिखित

Leave a Reply